प्रादेशिक न्यूज़हिमाचल प्रदेशदेश-विदेशआम-मुद्दाक्राइम/हादसापंजाब/जम्मूमेरी पांगीपत्रिका स्पशेलदिव्य दर्शनराशिफलसंता/बंतावायरल न्यूज़विज्ञापन संपर्क

हिमाचल: चंबा में लोक निमार्ण विभाग ने ठेकेदार को लगाया तीन करोड़ का जुमार्ना, जानिए इसके पिछे की वजह

02:48 PM Aug 14, 2022 IST
Advertisement

चंबा: हिमाचल प्रदेश के जिला चंबा के मिनी स्विटजरलैंड खज्जियार के लिए बनाई जा रही सड़क में लेटलतीफी करने वाले ठेकेदार को लोक निर्माण विभाग मंडल चंबा ने तीन करोड़ रुपए जुमार्ना ठोंका है। दो सालों में ठेकेदार को सड़क का निर्माण कार्य करने के आदेश दिए गए थे। लेकिन ठेकेदार अपनी मनमर्जी से कार्य करता रहा। इसकी वजह से दो साल पूर्ण होने पर अभी तक 55 प्रतिशत ही निर्माण कार्य पूर्ण हो पाया है। इसके चलते विभाग ने वालिया कंस्ट्रक्शन को तीन करोड़ रुपए का जुुमार्ना लगाया है। साथ ही उसके टेंडर को भी रद्द कर दिया है। इतना ही नहीं इस कंस्ट्रक्शन को ब्लैक लिस्ट करने के लिए विभाग ने उच्चाधिकारी को सिफारिश पत्र भी भेज दिया है। इसके परिणाम स्वरूप यह कंपनी ब्लैक लिस्ट भी की जा सकती है। अब विभाग इस कार्य को पूर्ण करवाने के लिए दोबारा से टेंडर करवाया जाएगा।

Advertisement

वर्ष 2019 में कंपनी को चंबा से खज्जियार मार्ग चौड़ा करने का कार्य आवंटित किया गया था। 19 किलोमीटर लंबी सड़क को चौड़ा करने के लिए कंपनी को दो साल का समय दिया गया था। डेढ़ साल में जब कंपनी ने अपनी प्रोग्रेस नहीं दी तो विभाग ने संबंधित ठेकेदार को नोटिस देकर कार्य को तीव्र गति देने के आदेश दिए। लेकिन उनके उपर नोटिस का कोई प्रभाव नहीं पड़ा। इसके चलते विभाग ने उन्हें जुमार्ना लगाने का निर्णय लिया। इसकी पूरी रिपोर्ट बनाकर चंबा मंडल ने अधीक्षक अभियंता कार्यलय में भेजी। जहां पर रिपोर्ट देखकर अधिकारी ने तुरंत कंपनी को जुमार्ना लगाने के आदेश जारी किए।

Advertisement

लोक निर्माण विभाग मंडल चंबा पहले भी चार सड़कों के निर्माण कार्य में देरी करने वाले ठेकेदारों को तीन करोड़ का जुुमार्ना ठोंककर उनके टेंडर रद्द कर चुका है। अब इन सड़कों के ‌कार्य दूसरे ठेकेदार कर रहे हैं। इसमें साच-फतेहपुर, घरग्रां, भानिया और सनोथा सड़कें शामिल हैं।

लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता जीत सिंह ठाकुर ने बताया कि सड़कों में लेटलतीफी करने वाले ठेकेदारों पर शिकंजा कसा जा रहा है। इसके तहत चंबा-खज्जियार मार्ग को चौड़ा करने वाली कंपनी को तीन करोड़ का जुमार्ना लगाया गया है। विकास कार्यों में लेट लतीफी करने वालों के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई की जाएगी।

Advertisement
Advertisement
Next Article